headerphoto
 

ध्यान Dhyan Hindi

ध्यान गुरु, भारत , Meditation Guru, India

नींद ,आचेत ध्यान है |
ध्यान सहज नींद है |

नींद में हमें थोड़ी सी ही शक्ति मिमलती है |
ध्यान से भरपूर शक्ति मिलती है |

ये शक्ति हमारे शरीर की दिमाग की और बुद्धि की शक्ति बडाती है |
छठी इन्द्रि उजगर करते है . . .

और भी बहुत कुछ . . .

इस ध्यान से बढ़ी हुई शक्ति

से हम बिना तनाव के स्वस्थ

और सुख रह सकते है |
हमारी शक्ति बहुत बढ जाती

है |

Meditation

ध्यान , हमारी चेतना स्वयम् कि ओर आने के सिवा कुछ नही है |

ध्यान से हम जानबूझकर
अपने शरीर से दिमांग तक जाते है ,
दिमांग से ज्नान , और ज्नान से स्वयम की ओर ,
और उससे भी आगे पहुंच जाते है |

ध्यान करने के लिये ,
हमे अपने शरीर की सारी हरकतों को बन्द करना पडता है ,
जैसे शरीर का हिलना , देखना , बॉलना और सोचना . . .

ध्यान कैसे करते है आइये देखते है . . .

ध्यान

ध्यान के लिये
पहला काम है . . . स्थिति |

आप किसी भी तरह बैट सकते है |
बैठना आरामदेह और निश्चल होना चाहिए |
हम ज़मीन और कुर्सि पर बैटकर ध्यान कर सकते हैं |
ध्यान हम किसी भी जगह कर सकते जहा हम सुखदायी हों |

आराम से बैठिए |
पैरों को मोडिऩ् उंगमियों को फंसाइए |
आंखे बन्द कीजिए |
अन्दर और बाहर की आवाजों पर रोक लगाइये |
किसी भी मन्त्र का उच्चारण नहीं कीजिए |

जब हम पैरों को मोड्ते है और उंगलियों को फंसा लेते हैं तो शक्ति का दायार बढ़ जाता है |
स्थिरता बढ़ जाती है |

आंखें दिमाग के द्वार हैं . . .
इसीलियें आंखें बन्द होनी चाहिए |

मन्त्रोच्चारण , कोई भी ध्वनियां - अन्दर या बाहर की . . . मन की क्रियाएं है |
इसलिये इन्हे बन्द करना होगा |

जब शरीर ढीला छोड़ दिया जाता है ,
चेतना दूसरे कक्ष में पहुंच जाती है . . .
मन और बुध्दि . . .

मन विचारों का समूह है |
बहुत से विचार हमारे मन में उभरते रहते हैं |

जब विचार आते हैं तो प्रश्न भी उठ खडें होते हैं . . .जाने और अनजाने |

मन और बुध्दि को भावातीत करने के लिए . . .
हमे अपनी संस पर ध्यान देना चाहिए . . .
अपने आप पर ध्यान देना हमारा प्रक्रुति है |

जान बूझकर सांस न लिजिए
जान बूझकर सांस न लिजिए न छोडिए |
सांस लेना या छोड्ना अनायास होना चाहिए |
प्राक्रुतिक सांस पर ध्यान दीजिए |

ये इसकी व्याख्या है . . . यही तरीका है . . .

विचारों का पीछा मत कीजिए . . .
विचारों , सवालों से चिपक मत जाइये . . .
विचारो को हटा दीजिये . . .
सांस पर पुनः ध्यान दीजिए . . .
सांस में खो जाइये |

इसके बाद . . .
सांसों की जगराई कम होती जाएगी . . .
धीरे धीरे सांस हल्कि और छोटी होती जाएगी . . .

आखिर में . . .
सांस बहुत छोटी हो जाएगी . . .
और दोनो भावों के बीच में चमक का रूप ले लेगी |

इस दशा में . . .
हर किसी में . . .
न सांस न रहेगी न विचार . . .
वो विचारों से परे हो जाएगा . . .

ये दशा कहलाती है . . .
निर्मल स्थिती या बिना बिचारों की दशा . . .

ये ध्यान की दशा है . . .

ये वो अवस्था है . . . जब हमपर विश्व शक्ति की बोछार होने लगती है |

हम जितना ज़्यादा ध्यान करेंगे उतना ही ज़्यादा विश् शक्ति हमे प्राप्त होगी |
विश् शक्ति प्राणमय शरीर की शक्ति में प्रावाह करती है |
शक्ति से भरा हुआ शरीर प्राणमय शरीर कहलाती है |

Read: ध्यान ( ध्यान )


जीवन्

Child
Stress Management
Relationships
Pregnancy
Health
Understanding Death

प्रबंध

Beyond body & mind
Meditative State
Live in the Moment
What is Meditative Technique?
Guided Meditation
How to do Meditation?
Science of Breath
Meditation for Health
Disturbed mind
Be with the Self
Science of Consciousness
Thoughts in Meditation
Life is Blissful
Pyramid Meditation
Etheric Patches in Energy Body
Guru


Valid XHTML 1.0 Strict

ब्लाग

 Valid XHTML 1.0 Strict Valid XHTML 1.0 Strict

हमार पता

ध्यान गुरु
# 205, ज्ञान मार्ग,
सिद्धार्थ नगर,
मैसूर-570011, भारत
दूरवाणि: +91 821 2470772
meditationguru@gmail.com

Google Map
Meditationguru, Mysore, Karnataka India

Valid XHTML 1.0 Transitional

Valid CSS!